न हि कम्मं विनस्सति Karma is never destroyed

Once Buddha said, "न हि कम्मं विनस्सति Karma is never destroyed". He meant that Karma is never destroyed, it produces the effects unerringly, and a doer has to undergo the good or bad effects of Karma inevitably. He gave his own example of getting abused by a person named Chincha, a big piece of stone … Continue reading न हि कम्मं विनस्सति Karma is never destroyed

Advertisements

पातंजल योग सूत्र, साधन पाद

पातंजल योग सूत्र, साधन पाद अविद्यास्मितारागद्वेषाभिनिवेशाः क्लेशाः ।।३ ।। अर्थ: अविद्या, अस्मिता, राग, द्वेष एवं अभिनिवेश – ये क्लेश हैं। व्याख्या: यहाँ पर पाँच प्रकार के क्लेश बताये गये हैं – (1) अविद्या से अर्थ अज्ञान से है। इसमें ज्ञान सही नहीं रहता। (2) अस्मिता से अर्थ अपनेआप से ज्यादा लगाव का होना है। यह … Continue reading पातंजल योग सूत्र, साधन पाद

धम्मपद: यमक वग्गो: मन ही प्रधान है (चक्खुपाल स्थविर की कथा) – SoundCloud

Listen to धम्मपद: यमक वग्गो: मन ही प्रधान है (चक्खुपाल स्थविर की कथा) by yogianand #np on #SoundCloud https://soundcloud.com/yogianand/mkju9gyldzpk

योगी आनंद द्वारा भगवती दुर्गा की प्रार्थना

हे माते! तू सर्वज्ञ है क्योंकि सबके भीतर स्थित आत्मा है तू। तेरी सत्ता चहुंओर और अनंत है। तू ब्रह्मा में रचनात्मक शक्ति, विष्णु में पालन-पोषण की शक्ति, एवं शिव में संहारक शक्ति के रूप में स्थित है। तेरे अनंत नाम व रूप हैं। शब्द, चेतना, बुद्धि, निद्रा, क्षुधा, छाया, शक्ति, तृष्णा, क्षान्ति (सहिष्णुता), जाति, … Continue reading योगी आनंद द्वारा भगवती दुर्गा की प्रार्थना

Try to be True Spiritual one, and be Unique

Being true Spiritual one is to be a true and unique channel of Immense wisdom, energy, prosperity, love and greatness. You can not manifest the extraordinary intelligence, power and performances unless you are an authentic human being but not a copy cat. The Divine Wisdom & Force doesn't like the repetition of any thing. In … Continue reading Try to be True Spiritual one, and be Unique

Vashistha Guha (Cave) & Arundhati Guha, Rishikesh, Uttarakhand (India)

Vashisth Guha or Gufa (Cave) is an ancient cave where great Sage Vashistha meditated. As per Hindu Mythology, Sage Vashistha was a manas putra (born of will power) of Lord Brahma, and one of the seven great sages (Saptarishis). This cave is located at 25 KMs far from Rishikesh, Uttarakhand (India) at Badrinath Road. Vashisth … Continue reading Vashistha Guha (Cave) & Arundhati Guha, Rishikesh, Uttarakhand (India)

वैदिक मन्त्रों द्वारा उद्देश्य प्राप्ति

मन्त्रों में अनंत शक्ति होती है. हरेक मंत्र का कोई न कोई द्रष्टा होता है, जिन्होंने उस मंत्र को गहन ध्यान की अवस्था में साक्षात्कार किया, जिनके अक्षरों में अन्तर्निहित अपरिसीम शक्ति प्राप्त की जा सकती है .

चालाकियां, आत्मा-परमात्मा, अध्यात्म, धर्मजगत

"आत्मा वा अरे द्रष्टव्यः श्रोतव्यो मन्तव्यो निदिध्यासितव्यो" - बृहदारण्यक उपनिषद आत्मा के बारे में श्रवण, मनन और ध्यान के द्वारा जो एकत्व का अनुभव करने की चरम अवस्था है उसे निदिध्यासन कहते हैं।